[दिगंबर आर्य ]

 
मुंबई : महाराष्ट्र एंटी टेररिज्म स्क्वॉड की जुहू यूनिट ने मुंबई के सबर्ब जोगेश्वरी से फैज़ल मिर्ज़ा नाम के नौजवान को अरेस्ट किया है। फैज़ल कुछ दिनों पहले ही पाकिस्तान से मुंबई को दहलाने की ट्रेनिंग लेकर लौटा था। एटीएस को फैज़ल के मंसूबों की भनक नहीं लगी होती अगर उसने पाकिस्तान में बैठे अपने हैंडलर्स से कोड-वर्ड्स में बात नहीं की होती।
 
 अपने पाकिस्तानी आकाओं से करता था बात –
 
फैज़ल की रिकॉर्डिंग ट्रेस होने के बाद एटीएस ने उस पर नज़र रखनी शुरू कर दी और उसका रिकॉर्ड खंगालना शुरू कर दिया। जांच पड़ताल में एटीएस को पता चला कि फैज़ल एक साल पहले ही देश से बाहर गया था और काफी समय तक अपनी फॅमिली के संपर्क में नहीं था लेकिन इंडिया लौटने के कुछ महीने पहले ही उसने अपने घरवालों से कांटेक्ट किया था।
 
मुंबई टू शारजहां टू दुबई टू कराची – 
 
इंडियन एम्बेसी से फैज़ल की ट्रैवेलिंग डिटेल्स निकाली गयी और उसके बाद उसे तुरंत अरेस्ट कर लिया गया। इन्वेस्टीगेशन के दौरान उसने बताया कि वो आईएम के इंडियन हैंडलर आमिर रज़ा के टच में था और उसी के हुक्म पर मुंबई से शारजहां, वहां से दुबई और दुबई से कराची पहुंचा था जहां उसे आतंक की ट्रेनिंग दी गयी थी।
pc:timesnow
 
आतंक की ट्रेनिंग मिली -केमिकल अटैक की थी प्लानिंग –
 
फैज़ल ने एटीएस ऑफिसर्स को बताया कि पाकिस्तान में उसे ऑटोमैटिक हथियार चलाने, केमिकल अटैक, बम बनाना और आत्मघाती हमला करने की ट्रेनिंग दी गयी थी। फैज़ल ने जब एटीएस ऑफिसर्स को बताया कि वो मुंबई और आसपास की केमिकल फैक्ट्रीज में ब्लास्ट करने की प्लानिंग कर रहा था तो सभी के होश उड़ गए।
 
कर चुका था कई ठिकानों की रेकी –
 
एटीएस का दावा है कि जोगेश्वरी में इलेक्ट्रिक की दुकान में काम करने वाला फैज़ल मुंबई के कई सेंसटिव ठिकानों की भी रेकी कर चुका था और जल्द ही किसी बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम देने की प्लानिंग रच रहा था।
 
फैज़ल के नजदीकियों से भी पूछताछ –
 
एटीएस को इस बात का भी शक है कि फैज़ल ने अपने प्लान में अपने कुछ नजदीकी लोगों को भी शामिल किया था और वो उन्हें भी देश के खिलाफ युद्ध करने के लिए तैयार कर रहा था। एटीएस अब फैज़ल से हिंदुस्तान में उसके ‘दोस्तों’ की फेहरिस्त तैयार करने में लगी हुई है।  
 
देखें वीडियो :-
फैज़ल बतायेगा अपनी आतंकी कंपनी के राज –
 
एटीएस से जुड़े एक सोर्स ने जिया न्यूज़ मुंबई को बताया कि फैज़ल से इन्वेस्टीगेशन चल रही है और उम्मीद है कि आईएम से जुड़े कई राज सामने आएंगे।
 
एटीएस ने नौजवानों को बचाया था आतंकी बनने से –
 
गौरतलब हो कि पखवाड़े महाराष्ट्र एटीएस ने मुंबई सहित महाराष्ट्र के कई जिलों से 118 नजवानों को चिन्हित किया था और उन्हें आतंक की राह पर भटकने से पहले ही रोक लिया था। एटीएस कुछ सालों से स्पेशल मिशन चला रही है और इस मिशन के तहत एटीएस के इन्फॉर्मॅट उन नौजवानों की पहचान करते हैं जो दूसरों के बहकावे में आ कर देश विरोधी सोच रखते हैं और आतंक के रास्ते पर चलने की सोचते हैं।एटीएस ने ऐसे ही भटके हुए लड़कों का ब्रेनवॉश किया और उनके दिलो-दिमाग से जिहाद का ज़हर निकाल दिया।    

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here