[विरेंद्र आर्य ]

पाकिस्तानी चीनी पर मचा घमासान –
 
मुंबई: पाकिस्तान से इंडिया में इंपोर्ट की गयी चीनी के खिलाफ महाराष्ट्र में अपोजिशन पार्टियों ने कड़ा रुख अख्तियार करना शुरू कर दिया है और सरकार पर चौरतरफा हमले शुरू हो गए हैं।
 
पाकिस्तान से चीनी इंपोर्ट करना देशद्रोह ही है –
 
एनसीपी के एमएलए जितेंद्र अव्हाड ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ उस गोडाउन पर छापा मारा और चीनी से भरे सैकड़ों बोर जप्त कर लिए। एनसीपी ने कड़े शब्दों में सरकार की निंदा करते हुए चेतावनी दी है कि दुश्मन देश से चीनी इंपोर्ट करना भी देशद्रोह के बराबर ही है। 
 
सरकार का मकसद किसानों को बर्बाद करना है –
 
विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने सरकार को घेरते हुए कहा कि जब देश में चीनी का उत्पादन अच्छा हो रहा है तो ऐसे में चीनी इंपोर्ट करने के पीछे सरकार का मकसद सिर्फ देश के किसानों को बर्बाद  करना है।
 
पाकिस्तानी चीनी बेचने वालों को नहीं छोड़ेगी मनसे –
 
वहीं दूसरी और मनसे भी खुलकर सरकार के सामने कड़ी हो गयी है। मनसे ने नवी मुंबई की एपीएमसी मार्किट के व्यापारियों को सख्त हिदायत देते हुए अल्टीमेटम दिया है कि अगर किसी भी व्यापारी ने पाकिस्तान की चीनी इंपोर्ट की और बेची तो मनसे अपने स्टाइल में उस व्यापारी से निपटेगी।
 
एनसीपी ने पकडे पाकिस्तानी चीनी के गोडाउन –
 
बता दें कि मुंबई की मार्किट में पाकिस्तान ब्रांड की शुगर बिक रही है। इस बात का खुलासा तब हुआ जब एनसीपी लीडर जितेंद्र अव्हाड ने एक गोडाउन पर छापा मारा और सैकड़ों क्वांटल चीनी की बोरियां पकड़ी। इन बोरियों पर पाकिस्तान की फ़रहान शुगर मिल लिमिटेड का नाम लिखा हुआ है।
 
लोगों ने कहा यह तो देश से गद्दारी है –
 
जिया न्यूज़ मुंबई ने कुछ लोकल लोगों से पाकिस्तानी चीनी के इंपोर्ट किए जाने बाबत बात कि तो सभी का एक ही जवाब था, ”जिस देश को आतंकी देश घोषित कर दिया गया हो और जो देश हमारे हिंदुस्तान को लहूलुहान करने की फ़िराक में लगा हुआ है ऐसे दुश्मन से चीनी या दूसरा कोई भी सामान इंपोर्ट करना देश के साथ गद्दारी।” 
 
मोदी तो पाकिस्तान का दलाल बन गया –
 
लोगों का गुस्सा सेंट्रल गवर्नमेंट और प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र मोदी पर जमकर फूटा, ”वहां पाकिस्तान हमारे जवानों को शहीद कर रहा है यहाँ सरकार पाकिस्तान से चीनी खरीद रही है,हमने मोदी को पाकिस्तान का दलाल बनने के लिए प्रधान मंत्री नहीं बनाया है।”

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here