सुलझ गयी कीर्ति व्यास की मर्डर मिस्ट्री –
 
मुंबई: अपराधी कितना भी शातिर क्यों न हो उसके किए गुनाह का कोई न कोई सबूत छूट ही जाता है। मुंबई से मिसिंग कीर्ति व्यास के कातिलों ने कानून से बचने के लिए फुलप्रूफ तैयारी की थी,सभी सबूत मिटा दिए थे लेकिन वे भूल गए थे कि अपराध का रास्ता ज्यादा लंबा नहीं होता।
 
मिसिंग कीर्ति की लाश मिली थी –
 
करीब एक महीने पहले अंधेरी वेस्ट के फेमस ‘बीब्लंट’ सलून की अकउंटेंट कीर्ति व्यास अपने ऑफिस से तो निकली लेकिन घर नहीं पहुंची। कीर्ति के पेरेंट्स को चिंता हुई और पुलिस में मिसिंग केस रजिस्टर करवा दिया।कीर्ति तो नहीं मिली लिहाजा टुकड़ों में उसकी लाश जरूर पुलिस ने बरामद की। मामला अब संगीन अपराध का रूप ले चुका था इसी लिए लोकल पुलिस के अलावा क्राइम ब्रांच भी कीर्ति मर्डर मिस्ट्री को सुलझाने में जुट गयी।
 
क्राइम ब्रांच को लगा मर्डर किसी प्रोफेशनल क्रिमिनल का काम है –
 
क्राइम ब्रांच के होशियार पुलिस ऑफिसर दिन-रात केस को सुलझाने के लिए माथापच्ची करते रहे लेकिन कीर्ति के कातिलों का सुराग नहीं मिला। कीर्ति को बेरहम मौत देने वालों बेहद शातिर थे,एकदम प्रोफेशनल क्रिमिनल, अब यह बाद क्राइम ब्रांच के ऑफिसर्स को भी समझ आ गयी थी।
 
कीर्ति के कॉल डिटेल्स भी नहीं कर पाए हेल्प –
 
क्राइम ब्रांच की कई टीमों ने कीर्ति के ऑफिस से लेकर उसके आखिरी कदम तक के सीसीटीवी कैमरे खंगाल लिए,हर उस शख्स से कई बार पूछताछ की जिस पर भी शक हुआ लेकिन पुलिस के हाथ खाली थे। पुलिस टीम ने कीर्ति के फ़ोन डिटेल्स भी छान मारे लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।
 
कीर्ति की दोस्त पर था शक लेकिन… 
 
क्राइम ब्रांच के ऑफिसर्स ने कीर्ति की दोस्त ख़ुशी से कई बार पूछताछ की और वो इस लिए कि कीर्ति के मोबाइल पर जो आखिरी कॉल रजिस्टर हुआ था वो ख़ुशी का ही था। जब भी क्राइम ब्रांच ने ख़ुशी से कीर्ति के बारे में पूछा उसने कहा कि उसने उसे कॉल कर के घर छोड़ने को बोला था और उसे घर तक लिफ्ट दी थी। उसके बाद वो कहां गयी उसे नहीं पता। ख़ुशी का यही रटा-रटाया जवाब पुलिस के सामने चीन की दीवार बन गया था।
 
कीर्ति का दूसरा दोस्त भी आया शक के घेरे में –
 
क्राइम ब्रांच के सीनियर ऑफिसर की छठी इंद्री बार बार ख़ुशी को ही अपराधी बता रही थी लेकिन उनके पास ऐसा एक भी सबूत नहीं था जिसको आधार बनाकर ख़ुशी को ‘ताबे’ में लेते। ख़ुशी के कॉल डिटेल्स खंगालते वक़्त ऑफिसर्स को एक नंबर मिला जिससे ख़ुशी को वारदात वाले दिन कई कॉल किये गए थे। यह नंबर ख़ुशी के दोस्त सिद्धेश ताम्हणकर का था।
 
कीर्ति की वजह से गयी थी दोस्त सिद्धेश की नौकरी –
 
क्राइम ब्रांच की एक टीम ने ख़ुशी की पल-पल की जानकारियां निकालनी शुरू कर दी,जबकि दूसरी टीम ने सिद्धेश ताम्हणकर का पूरा इतिहास खंगाल लिया। इन्वेस्टीगेशन के दौरान क्राइम ब्रांच के ऑफिसर्स को पता चला कि सिद्धेश ताम्हणकर भी उसी सलून में काम करता था जिसमें कीर्ति भी थी और कुछ दिन पहले ख़ुशी की शिकायत पर सिद्धेश को नौकरी से भी निकाल दिया गया था।
 
फॉरेंसिक लैब में भेजी सिद्धेश की कार,और… 
 
इस इनफार्मेशन के बाद क्राइम ब्रांच ने सख्ती से काम लिया। क्राइम ब्रांच ने सिद्धेश और ख़ुशी को उठाया और पूछताछ शुरू की लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा। क्राइम ब्रांच ने सिद्धेश की कार को ताबे में लिया लेकिन वहां से भी कोई सुराग नहीं मिला। तभी सीनियर ऑफिसर ने कार को फॉरेंसिक लैब में जांच के लिए भेजने का आदेश दिया।
 
कार में मिले खून के धब्बे –
 
कुछ दिनों बाद जब फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट आयी तो क्राइम ब्रांच की टीम के चेहऱे खिल उठे।फॉरेंसिक लैब से जो रिपोर्ट क्राइम ब्रांच के पास आयी थी उसमें कार से मिले खून के धब्बों का मिलान कीर्ति के पेरेंट्स के डीएनए से हो गया था।
 
अब क्राइम ब्रांच ने की अपने स्टाइल में पूछताछ –  
 
फॉरेंसिक रिपोर्ट के बाद क्राइम ब्रांच की टीम ने ख़ुशी और सिद्धेश को फिर उठाया और इस बार अपने स्टाइल में पूछताछ शुरू की। पुलिस का इन्वेस्टीगेशन करने का यह तरीका कुछ ज्यादा सख्त था इसी लिए आरोपी टूट गए। ख़ुशी और सिद्धेश ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। 
 
इन्वेस्टीगेशन में टूट गए आरोपी –
 
क्राइम ब्रांच की इन्वेस्टीगेशन में ख़ुशी ने बताया कि सिद्धेश के इशारे पर उसने कीर्ति को कॉल किया और घर छोड़ने की जिद्द की। ख़ुशी ने यह भी बताया कि कीर्ति की वजह से ही सिद्धेश की नौकरी चली गयी थी जिस वजह से वो कीर्ति को सबक सीखाना चाहता था।ख़ुशी ने बताया कि सिद्धेश ने चाकू से कीर्ति का गला चीर दिया,फिर उसकी लाश के टुकड़े कर दिए और लाश को ठिकाने लगाकर दोनों निश्चिंत होकर अपने घर चले गए। 
 
कार दिलवाएगी कातिलों को सजा –
 
क्राइम ब्रांच ने कीर्ति व्यास के मर्डर में उसके दोस्त सिद्धेश और ख़ुशी को अरेस्ट कर लिया है और सबूत के तौर पर सिद्धेश की कार जप्त कर ली है। जिया न्यूज़ मुंबई से बात करते हुए क्राइम ब्रांच के एक ऑफिसर्स कहा,”अब यह कार ही कातिलों को इनके किये गुनाहों की सजा दिलवाएगी।”

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here