[दिगंबर आर्य ]

मुंबई: मराठों ने महाराष्ट्र गवर्नमेंट को वार्निंग देते हुए कहा कि अगर उनकी मांगों को दो हफ्ते के भीतर पूरा नहीं किया गया तो फिर से आंदोलन होगा लईकिन इस बार का आंदोलन मूक नहीं बल्कि उग्र होगा।
 
इस बार आंदोलन मूक नहीं होगा –
 
मराठा संगठनों के एक प्रतिनिधिमंडल ने रेवेनुए मिनिस्टर चंद्रकांत पाटिल से मीटिंग की और उन्हें इस बात से अवगत करवाया कि मराठा आंदोलन के बावजूद भी महाराष्ट्र गवर्नमेंट मराठों के प्रति सीरियस नहीं है। मराठा लीडर्स ने चंद्रकांत पाटिल को साफ शब्दों में चेतावनी दी है कि अगर गवर्नमेंट ने उनकी मांगों को दो हफ़्तों में पूरा नहीं किया तो गवर्नमेंट के खिलाफ फिर से मराठा फिर से सड़कों पर उतरेंगे और यह आंदोलन मूक नहीं होगा।
 
गवर्नमेंट ने मराठा संघठनों की मांग पूरी नहीं की –
 
बता दें कि अपनी विभिन्न मांगों को लेकर मराठा संगठनों ने मुंबई सहित महाराष्ट्र के कई जिलों में मूक आंदोलन किए और गवर्नमेंट को उनकी मांगों को जल्द से जल्द पूरा करने की मांग की थी। मराठा संघठनों का तर्क है कि गवर्नमेंट उनकी कुछ मांगों पर तो संज्ञान लिया लेकिन कई महत्वपूर्ण मांगों पर अभी तक ध्यान ही नहीं दिया।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here