मुंबई: जिस उम्र में नौजवानों के हाथों में कॉपी-पेन होने चाहिए थे उस उम्र में यह नौजवान AK-47 उठाने की तैयारी कर चुके थे लेकिन महाराष्ट्र की एंटी टेरररिज़म स्क्वाड ने महाराष्ट्र के इन 118 नौजवानों को मौत के मुंह में जाने से बचा लिया। इन 118 नौजवानों में 20 मुंबई के भी हैं। 

आतंकी संघठन ISIS ज्वाइन करना चाहते थे –

 
भटके हुए नौजवानों की पहचान करने के लिए एटीएस ने स्पेशल मिशन शुरू किया है और इस मिशन के तहत भटके हुए उन नौजवानों की पहचान की जाती है जो आतंकी संघठन ISIS से प्रभावित होते हैं। एटीएस ने अपने नेटवर्क के बलबूते 118 लड़कों को न सिर्फ ढून्ढ निकाला जो ISIS ज्वाइन करने की तैयारी कर चुके थे बल्कि उन्हें आतंक की राह पर चलने के दुष्परिणाम की जानकारी देकर आतंकी बनने से उनका माइंडवाश भी कर दिया।
 
देश में चोरी-छुपे चल रहे हैं आतंक के स्कूल –
 
बता दें कि ISIS ने हिंदुस्तान के अलग अलग स्टेट में अपने स्लीपर सेल और ऑपरेटिव एक्टिव किए हुए हैं जो नौजवान मुस्लिम लड़कों को बरगला कर ISIS में शामिल होने और धर्म के नाम पर कुर्बान होने के सपने दिखाकर ब्रेन वॉश करते हैं।  
 
पहले भी कई लड़कों को बचाया गया था –
 
इन नौजवानों से पहले भी एटीएस मुंबई और आसपास के मुस्लिम एरिया के कई नौजवानों को आतंकी बनने से बचा चुकी है।
देखें वीडियो :-

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here