[दिगंबर आर्य ]

फिल्म ‘शोले’ के जय-वीरू जैसी थी दोस्ती –

 
मुंबई: भाई तो नहीं थे लेकिन दोस्ती ऐसी की एक दूसरे पर जान छिड़कते थे रामास्वामी और विक्रम। लोग दोनों की दोस्ती की कसमें खाते खाते थे। यहां तक कि लोग दोनों को फिल्म ‘शोले’ के जय-वीरू पुकारते थे लेकिन उनकी दोस्ती को नज़र लग गयी। आज रामास्वामी अपने दोस्त विक्रम की हत्या के जुर्म में सलाखों के पीछे है।
 
‘मूड’ बनाने के चक्कर में बिगड़ी बात –
 
विक्रम और रामास्वामी काम से छूटने के बाद  घर लौट रहे थे, हमेश की तरह मस्ती चल रही थी। विक्रम ने रामास्वामी से थोड़ा ‘मूड’ बनाने की बात कही। दोनों ने एक दूसरे के गिलास से जमकर शराब पी और फिर घर के लिए निकल पड़े।
 
दोस्त ने ले ली दोस्त की जान –
 
जब दोनों साउथ मुंबई के इनकम टैक्स ऑफिस के पहुंचे पहुंचे किसी बात को लेकर दोनों में तू-तू मैं-मैं शुरू हो गयी और बात बिगड़ती चली गयी। गुस्से में रामास्वामी ने पेबल ब्लॉक उठा लिया और जान से भी प्यारे दोस्त विक्रम के सिर पर दे मारा और विक्रम वहीँ गिर गया। लोगों ने विक्रम को हॉस्पिटल भी पहुंचाया लेकिन तब तक विक्रम की जान निकल चुकी थी। 
 
लोगों को नहीं हो रहा यकीन –
 
पुलिस भी मौके पर पहुंची और रामास्वामी को अरेस्ट कर लिया। लोगों को विक्रम और रामास्वामी को जानने वालों को आज भी यकीन नहीं हो रहा कि ‘जय-वीरू’ की जोड़ी टूट गयी, रामास्वामी ने ही वीरकम की जान ले ली।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here