[खालिद खान ]

 
मुंबई: मुंबई पुलिस ने ऐसे शातिर चोर को अरेस्ट किया है जो कभी खुद पुलिस का जवान हुआ करता था। इस शातिर ‘वर्दीवाले चोर’ के पिताजी भी मौत से पहले तक मुंबई पुलिस में तैनात थे।
पिता की ड्यूटी पर मौत हो जाने के बाद अक्षय चौगले को पुलिस की नौकरी मिल गयी लेकिन इसकी गैर-कानूनी हरकतों के चलते उसे पुलिस डिपार्टमेंट ने बाहर का रास्ता दिखा दिया। पुलिस की नौकरी छिन जाने के बाद अक्षय चौगले ने खुद का गैंग बना लिया और मुंबई में चोरी की वारदातों को अंजाम देने लगा। चूंकि वो पुलिस में था इसी लिए उसे इस बात का बखूबी इल्म था कि चोरी की वारदात कहां करनी है,कब करनी है और कैसे पुलिस की आंख में धूल झोंक कर निकल जाना है।
अक्षय चौगले चोरी की वारदातों को बेख़ौफ़ अंजाम देता चला गया। अगर कभी पुलिस को उस पर शक भी हुआ तो अपनी ‘पुलिसिया स्टाइल’ से बच निकलता लेकिन यह शातिर शायद यह भूल गया था कि गुनाह का रास्ता खत्म जेल की काल कोठरी में ही होता है।
मुंबई के भोईवाड़ा पुलिस की जुरिडिक्शन ने अक्षय चौगले ने वारदात को अंजाम दिया और बेखबर अपने घर जाकर सो गया लेकिन अभी उसकी नींद टूटी भी नहीं थी कि कानून के लंबे हाथ उसके गिरेबान तक पहुंच गए। उसे देर रात इलाके में घूमते वक़्त किसी ने देख लिया था।
पुलिस ने जब अक्षय चौगले को हिरासत में लिया और अपने स्टाइल में पूछताछ शुरू की तो उसने अपने सभी गुनाह कबूल कर लिए। पुलिस अब इस शातिर ‘वर्दीवाले चोर’ की आपराधिक कुंडली तैयार कर रही है ताकि इस बात का पता चल सके कि इस बदमाश ने अपने गैंग के साथ कितनी वारदातों को अंजाम दिया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here