मुंबई

एससी/ एसटी कानून के प्रावधानों में बदलाव का विरोध कर रहे दलितों द्वारा बुलाए गए राष्ट्रव्यापी बंद के दौरान हुई हिंसा पर बोलते हुए एक बार फिर बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व पर कटाक्ष किया है। पार्टी ने अपने मुखपत्र सामना में भारत बंद के दैरान हुई दलित हिंसा को ‘कमज़ोर’ और ‘स्वार्थी नेतृत्व’ बताया है।

शिवसेना ने करोड़ों रुपये के पंजाब नेशनल बैंक घोटाले को आड़े हाथों लेते हुए आगे कहा कि हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने देश को लूटा जबकि मौजूदा सरकार देश को तोड़ रही है। बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए शिवसेना ने आगे कहा, ‘जब नेतृत्व कमजोर और स्वार्थी होता है, तब हिंसा की घटनाएं होती हैं।

पढ़े – भारत बंद के दौरान रिवॉल्वर ताने शख्स की हुई पहचान !

शिवसेना ने कहा कि देश को एक बार धर्म के नाम पर विभाजित किया गया था, अगर इसे जाति के नाम पर एक बार फिर तोड़ा जा रहा है, तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहां हैं और वह क्या कर रहे हैं?

सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश के खिलाफ सड़कों पर उतरना भारतीय संविधान के निर्माता डॉ बीआर अंबेडकर की विचारधारा के खिलाफ जाने जैसा है। केंद्र और महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री मोदी जनता के बीच लोकप्रिय हैं, तो उन्हें दलितों को हिंसा करने से रोकने के प्रयास करने चाहिए। एससी/एसटी (अत्याचार निवारण) कानून के कुछ प्रावधानों में बदलाव करने काविरोध कर रहे दलित संगठनों द्वारा सोमवार को बुलाये गये भारत बंद में कम से कम 14 लोगों की मौत हो गयी और कई लोग घायल हुए।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here