[अरुण कौशिक ]

बढ़ाओ हमारी भी पेंशन –

 
मुंबई : कर्ज के बोझ में दबी पड़ी महाराष्ट्र सरकार के सामने एक और बड़ी डिमांड आ गयी है। यह डिमांड करने वाले महाराष्ट्र के पूर्व-विधायक हैं। इन एमएलए की मांग है कि उनकी भी पेंशन बढ़नी चाहिए और वो भी सेवेंथ पाय-कमीशन के हिसाब से।
सीएम से की मुलाकात –
पूर्व-विधायकों ने महाराष्ट्र के चीफ मिनिस्टर देवेंद्र फडणवीस के अलावा विधानसभा और विधान परिषद अध्यक्षों से मुलाकात की है और उनके सामने अपनी कुछ मांगें रखी हैं। इन मांगों में सबसे पहली जो मांग है वो उनकी पेंशन में बढ़ोतरी को लेकर है।
पेंशन में बढ़ोतरी के अलावा यह सुविधाएं भी चाहिए –
पूर्व-विधायकों की डिमांड है उनको मिलने वाली 50 हज़ार रुपए पेंशन में इजाफा किया जाए और वो भी सातवें वेतन आयोग के मुताबिक। इसके अलावा पूर्व-एमएलए की यह भी डिमांड है कि एमएलए हॉस्टल में उनके लिए कम से कम 10 रूम रिज़र्व किए जाएं। इसके अलावा ट्रेन के सफर में 50 हज़ार किलोमीटर की दूरी के लिए मुफ्त सफर, साल में 2-3 बार फ्री हवाई सफर और उन्हें स्पेशल एग्जीक्यूटिव ऑफिसर का दर्जा दिया जाना चाहिए।
4 लाख करोड़ रुपए के कर्ज में दबी है सरकार –
बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभा के 695 और विधान परिषद के 139 पूर्व विधायक हैं और सरकार पर करीब साढ़े चार लाख करोड़ रुपए का कर्ज है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here